Twenty-Two Killed, 100 Injured as Boiler Explodes at NTPC’s Unchahar Plant


New Delhi: A boiler in the National Thermal Power Corporation (NTPC) Unchahar plant in Rae Bareli exploded on Wednesday (November 1), leaving 22 people dead and close to 100 injured.

According to Uttar Pradesh police ADG (law and order) Anand Kumar, the toll from the explosion could rise further as people are feared to be trapped inside the plant.

The boiler pipe burst in the 500 MW power-generating unit that began operating in March, NDTV reported. A massive fire broke out and a large ball of dust rose after the explosion, making rescue difficult, the channel said.

“…there was sudden abnormal sound at 20 mt. elevation and there was an opening…from which hot flue gases and steam escaped affecting the people working around the area,” NDTV quoted NTPC as saying in a statement.

Chief minister Adityanath, who is away in Mauritius on a three-day official visit, ordered that necessary steps be taken for rescue and relief. “The chief minister has taken cognisance of the Unchahar accident and has directed principal secretary (home) to ensure that all steps are taken for rescue and relief,” principal secretary (information) Awanish Awasthi, who is accompanying Adityanath, said.

NTPC said in a statement, according to NDTV, “An unfortunate accident in the boiler of 500MW under trial unit of NTPC – Unchahar occurred this afternoon”.

The injured are being rushed to nearby hospitals, police have said. The district administration rushed ambulances to the plant and directed health officials to provide prompt treatment to the injured. A National Disaster Response Force team has also been sent to help with the rescue efforts.

The coal-fired plant is owned by India’s biggest power utility NTPC Ltd, and police officer Dhananjay Singh said the plant, has now been shut down.

Prime Minister Narendra Modi tweeted to say officials were ensuring that normalcy is restored.

Deeply pained by the accident at the NTPC plant in Raebareli. My thoughts are with the bereaved families. May the injured recover quickly. The situation is being closely monitored & officials are ensuring normalcy is restored: PM @narendramodi

(With PTI inputs)


NTPC blast due to pressure to start unit ahead of schedule?


The Unchahar power plant where the blast took place

All India Power Engineers Federation (AIPEF) suspects safety standards were compromised in the company’s haste to operationalise unit a year ahead of schedule

Did officials of NTPC compromise on safety resulting in the accident in which 30 workers, most of them casual workers, lost their lives and 66 others received burns, some of them over 70 per cent, and are struggling for their lives at the Unchahar Thermal Power Plant?

Questions are being raised whether the unit no. 6 of the Unchahar Thermal Power plant was ready for trial. Was the operation cleared by the competent authority or did the NTPC board or chairman force officials to start operations without allowing a “cooling period” for the plant to settle down?

Electrical engineers NH spoke to said that normally it takes a new, thermal unit three and a half years to four years to become operational. But at Unchahar, this particular unit was being pushed to become operational in two and a half years. Was the NTPC chairman also under pressure, they wondered.

“The admission that around 150-200 people were working in the boiler section at the time of the accident is a clear indication that work in the plant was not complete. In a running plant only 5-6 people work at a time in that section. Why were so many people working there ?” asks Shailendra Dubey, Chairman, All India Power Engineers Federation (AIPEF) .

Safety factors should not be compromised in the company’s rush to complete projects ahead of schedule, the engineers say. The AIPEF has demanded a high level independent enquiry in the whole matter so that such type of incident may not occure in future, he said.

The blast was reportedly triggered in the duct connected to the boiler which is used for transferring ash of burnt coal. It is believed that the ash pipe got choked, causing the blast.

Apart from huge accumulation of ash in the furnace, the problem also got aggravated when the coal powder which was pumped into the furnace developed a `clinker formation’ .As workers were engaged to break the clinkers, the coal supply got disrupted. This disturbed the pressure which rose to +350 mmwc from the normal pressure of +/-5 mmwc into the boiler which started vibrating before bursting from corner number 2, an engineer tried to explain.

“The formation of coal clinkers often causes serious problem for smooth working of a power plant,” confirmed Dubey. He said that the boiler has enormous pressure which needs to be maintained with smooth flow of coal.

He said that AIPEF would be submitting a memorandum to Central Power Minister R K Singh demanding strict adherence of safety measures in running the power plants.

Meanwhile, four critically injured workers succumbed to their injuries at different government hospitals in Lucknow late last night taking the toll to 30. Still more than 60 critically injured were admitted at different hospitals.

Principal secretary (home) Arvind Kumar said that 19 people died in Rae Bareli while the rest died in different hospitals including in Lucknow.

The victims were mostly contractual workers engaged in construction work of the boiler.

According to an eye witness, a big explosion rocked the campus with black smoke engulfing the unit. There were around 1150 worker working in the power plant at the time of the incident. Most of the deceased were burnt alive.

According to the reports, the plant was on a trial run and generating 200 Megawatts of power which was not yet being supplied to the grid.

एनटीपीसी हादसा पीड़ितों में 30 की मौत, 200 से ज्यादा झुलसे लोगों का हो रहा उपचार

Publish Date:Wed, 01 Nov 2017 04:49 PM (IST) | Updated Date:Thu, 02 Nov 2017 10:48 PM (IST)

एनटीपीसी हादसा पीड़ितों में 30 की मौत, 200 से ज्यादा झुलसे लोगों का हो रहा उपचारएनटीपीसी हादसा पीड़ितों में 30 की मौत, 200 से ज्यादा झुलसे लोगों का हो रहा उपचार
एनटीपीसी ऊंचाहार में बॉयलर फटने से कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई है और 200 से ज्यादा लोग झुलस गए हैं। यूपी सीएम ने पीड़ितों के लिए मदद की घोषणा की है।

रायबरेली (जेएनएन)।  एनटीपीसी ऊंचाहार की छठी यूनिट में बुधवार शाम बिजली उत्पादन के दौरान ब्वॉयलर में विस्फोट हो गया। दो सौ से ज्यादा श्रमिक, कर्मचारी व अधिकारी दहकती राख की चपेट में आ गए। विस्फोट में 30 लोगों के मरने की प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि 200 से ज्यादा घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है, जिनमें कई की हालत नाजुक है। अब भी बड़ी संख्या में श्रमिकों के राख में दबे होने की आशंका है। घायलों में एनटीपीसी के तीन एजीएम भी शामिल हैं। मृतकों में उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश के लोग शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि घटना के फोटो बहुत ही भयावह है जो विचलित कर देने वाले हैं। इसलिए हम उन्हें प्रकाशित नहीं कर रहे हैं।

शोक संवेदना और मदद

एनटीपीसी हादसे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सांसद सोनिया गांधी ने शोक संवेदना व्यक्त किया है। यूपी सीएम ने प्रमुख सचिव गृह को हादसे के पीड़ितों को हर संभव राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। मृतकों के लिए सीएम की ओर से मृतक आश्रितों और घायलों को आर्थिक सहायता देने की घोषणा की गई है। अब गुरुवार को यूपी तथा केंद्र सरकार के मंत्री घटनास्थल का निरीक्षण करने जा रहे हैं।

ऐस पाइप में अचानक धमाका

नेशनल थर्मल पावर कार्पोरेशन (एनटीपीसी) ऊंचाहार परियोजना के संयंत्र क्षेत्र में नवनिर्मित पांच सौ मेगावाट क्षमता की छठी इकाई में बिजली उत्पादन का काम चल रहा था। शाम करीब पांच बजे ब्वॉयलर की ऐश पाइप में अचानक तेज आवाज के साथ धमाका हो गया। लगभग 90 फीट ऊंचाई पर विस्फोट हुआ और प्लांट के चारों ओर गर्म राख फैल गई।

ब्वॉयलर के आसपास निजी कंपनी के दो सौ से ज्यादा श्रमिक, एनटीपीसी के कर्मचारी व अधिकारी काम में जुटे थे। ये सभी राख की चपेट में आ गए। हादसे की सूचना पर एनटीपीसी प्रबंधन सक्रिय हुआ। गर्म राख को हटाकर घायलों को बाहर निकालने का काम शुरू हुआ। सबसे पहले घायलों को एनटीपीसी अस्पताल लाया गया। फिर उनकी गंभीर हालत को देखते हुए रायबरेली या लखनऊ रेफर किया जाने लगा।

जानकारी के मुताबिक यह हादसा एनटीपीसी ऊंचाहार की 500 मेगावाट की छठी यूनिट हुआ है। इस हादसे में 25 लोगों को पहले एनटीपीसी अस्पताल में ही भर्ती कराकर उपचार कराया गया । शेष घायलों को निकाला जाने की कार्रवाई के बीच अधिकारियों ने यूनिट को सील कर दिया है। वहां किसी को जाने की अनुमति नहीं है। लोगों ने कई शवों को निकाले जाते देखा है। बताया गया है कि जिन लोगों की सांसे थम गई थीं उन्हें एनटीपीसी परिसर में ही रोक लिया गया जिनकी सांसे चल रहीं थी उन्हें ही बाहर के अस्पतालों तक पहुंचाया गया। हादसा बहुत भयावह है। कितने जख्मी कितनी मौत कुछ कहा नहीं जा सकता है।

हादसे से जुड़े कुछ खास तथ्य

 from Raebareli: Ash-pipe explosion at NTPC plant; at least 100 injured.

View image on TwitterView image on TwitterView image on Twitter
  • यूनिट और उसके आसपास करीब 200 कर्मचारी मौजूद थे
  • लगभग 90 फीट ऊंचाई पर ऐस पाइप में विस्फोट हुआ
  • आग लगने के बाद लपटों में घिरकर सब इधर भागने लगे।
  • पुलिस और पीएसी के अलावा पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे।
  • दर्जनों एम्बुलेंस से घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया।
  • कुछ श्रमिकों की हालत नाजुक देखते लखनऊ रेफर किया गया
  • फ़िलहाल हादसा कैसे हुआ इसकी अधिकारी जांच कर रहे हैं।
  • आग ऊंचाहार एनटीपीसी की 500 मेगावाट यूनिट में लगी।
  • परियोजना ने हाइड्रो टेस्टिंग में रिकार्ड स्थापित किया है।
  • बुधवार दोपहर बाद के हादसे ने सबको झकझोर दिया है।
  • एनटीपीसी बॉयलर फटने से 200 से अधिक मजदूर झुलसे हैं।
  • इस भयावह हादसे में 30 श्रमिकों की झुलसकर मौत है।
  • बड़ी संख्या में लोगों के दबे होने की आशंका बरकरार
  • लखनऊ केजीएमयू में पचास बेड आरक्षित किए गए।

शाम सात बजे तक एनटीपीसी अस्पताल में 110 और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सात घायलों को भर्ती कराया गया। बाद में इनमें से 18 गंभीर घायलों को जिला अस्पताल लाया गया। हादसे में 30 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से बिहार के कंचन और हबीबुल्ला, लखनऊ के संजय पटेल, मध्य प्रदेश के राम रतन, अवधेश जायसवाल निवासी बिकई ऊंचाहार, जितेंद्र चौधरी, प्यारेलाल, गफ्फूर, सच्चिदानंद, अनंतपाल, फैज्जुला, बालकृष्ण और रवींद्र शिनाख्त हो सकी है। एनटीपीसी के अतिरिक्त महाप्रबंधक प्रभात श्रीवास्तव, मिश्रीलाल और संजीव सक्सेना भी गर्म राख की चपेट में आ गए। तीनों को गंभीर हालत में लखनऊ रेफर किया गया है।

By Nawal Mishra